X
My Commerce Point
X
My Commerce Point
Type Here to Get Search Results !

Type of cost on the basis of Decision

Translate English and Hindi

Type of cost on the basis of Decision 
(निर्णयन के आधार पर लागत के प्रकार)

  • Predetermined Cost :- The cost which is determined before production or commencement of work is called pre-determined cost. Normally these costs are determined for filling a tender.
  • पूर्व-निर्धारित लागत :- जो लागत उत्पादन अथवा कार्य प्रारम्भ करने से पूर्व ज्ञात की जाती है उसे पूर्व- निर्धारित लागत कहा जाता है। सामान्तया ये लागत किसी टेंडर को भरने के लिये ज्ञात की जाती है।
  • Standard Cost :- Those pre-determined costs which are related to the efficient operation of the business and based on which the variances are compared with the actual costs are known as standard costs.
  • प्रमाप लागत :- वे पूर्व-निर्धारित लागतें जिनकी गणना व्यवसाय की कुशल संचालन से सम्बंधित होती है एवं जिसके आधार पर वास्तविक लागत के साथ तुलना करके विचरण ज्ञात किये जाते हैं, उसे प्रमाप लागत कहते हैं।
  • Marginal Cost :- Cost which change due to the production of an additional unit are known as marginal cost.
  • सीमान्त लागत :- वह लागत जो किसी एक अतिरिक्त इकाई के उत्पादन से परिवर्तित हो जाती है, उसे सीमान्त लागत कहते हैं।
  • Opportunity Cost :- The cost of the option that is discarded for the selection of any other better option is called opportunity cost.
  • अवसर लागत :- किसी अन्य बेहतर विकल्प के चयन के लिए जिस विकल्प का त्याग किया जाता है उसकी लागत को ही अवसर लागत कहा जाता
  • Differential Cost :- Costs that reflect changes in the total cost due to changes in the level of activity, technology, process or method of production are known as Differential Costs.
  • भेदात्मक लागत :- वे लागतें जो क्रियाशीलता के स्तर, तकनीक, प्रक्रिया या उत्पादन की पद्धति में परिवर्तन से कुल लागत में होने वाले परिवर्तनों को प्रकट करती है, भेदात्मक लागत कहलाती है।
  • Imputed Cost :- Costs that are notional and do not include cash are known as Imputed costs. These costs are also called Opportunity costs.
  • आरोपित लागत :- वे लागतें जो काल्पनिक होती है तथा जिन में नकदी का समावेश नहीं होता है आरोपित लागत कहलाती है। ये लागतें अवसर लागत भी कहलाती है।
  • Product Cost :- The costs that are incurred in making or providing a product are known as Product cost.
  • उत्पाद लागत :- वे लागतें जो किसी उत्पाद को बनाने या किसी को प्रदान करने में लगाती है उसे उत्पाद लागत कहा जाता है।
  • Out of Pocket Cost or Cash Cost :- The part of the total cost which is paid in cash is known as Out of pocket cost.
  • जेब से लागत या रोकड़ लागत :- कुल लागत का वह भाग जिसका भुगतान नकद में किया जाता है जेब से लागत कहलाती है।
  • Shut-down Cost :- Expenses incurred even after temporarily shutting down a plant are called Shut-down Costs.
  • बन्द रहने पर लागत :- किसी संयंत्र को अस्थायी रूप से बन्द करने के बाद भी लगाने वाले व्यय, बन्द रहने पर लगने वाली लागतें कहलाती हैं।
  • Sunk Cost :- Costs that have been paid in the past and have no effect on the decisions that are currently taken are known as Sunk costs.
  • बत लागत:- वें लागतें जिनका भुगतान भूतकाल में किया गया हो एवं जिनका वर्तमान में लिए जाने वाले निर्णयों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता हो, डूबत लागत कहलाती है।
  • Absolute Cost :- Costs, which are expressed in comparison with different costs at actual prices or as a percentage of total costs, are called absolute costs.
  • निरपेक्ष लागत :- जिन लागतों को वास्तविक मूल्यों पर विभिन्न लागतों के साथ तुलनात्मक रूप में या कुल लागत के प्रतिशत के रूप में दर्शाया जाता है, उन्हें निरपेक्ष लागत कहा जाता हैं।
  • Discretionary Costs :- Those costs, which are entirely depend on the discretion of the management, called discretionary costs. Like advertising, training, public relations etc.
  • विवेकाधीन लागतें :- वें लागतें जिनका होना या न होना पूर्णतया प्रबंध के विवेक पर निर्भर करता है, विवेकाधीन लागतें कहलाती हैं । जैसे विज्ञापन, प्रशिक्षण, जन-संपर्क आदि खर्चे।
  • Period Cost :- Those costs, which are charged as expenses against the proceeds of the respective year rather than being charged on the product, are called periodic costs.
  • आवधिक लागते :- वे लागतें जिन्हें उत्पाद पर प्रभारित न करके सम्बंधित वर्ष के आगमों के प्रति व्ययों के रूप में चार्ज किया जाता हैं, आवधिक लागतें कहलाती हैं।
  • Explicit Cost :- Costs that are paid or to be paid in cash are called Explicit costs.
  • स्पष्ट लागत :- जिन लागतों का नकद भुगतान किया जाता है या किया जाना हो, उन्हें स्पष्ट लागत कहा जाता है।
  • Implicit Cost :- Those costs which are not recorded in the books of account because these costs are not spent in cash but are still included in the decision.
  • अंतर्निहित लागते :- वे लागतें जिनको लेखा पुस्तकों में दर्ज नहीं किया जाता है क्योकि ये लागतें नकद में खर्च नहीं होती हैं परन्तु फिर भी इन्हें निर्णय मेंशामिल किया जाता है।