Type Here to Get Search Results !

सांख्यिकी का संग्रह (Collection of data)

योजना चरण के बाद अगले महत्वपूर्ण कदम संबंधित समंको को एकत्र करने के लिए है क्योंकि विश्लेषण और व्याख्या की कार्रवाई एकत्र समंको पर निर्भर करता है।

सांख्यिकी का संग्रह (Collection of data)

प्राथमिक समंको की खूबियां

  • यह मूल, अधिक विश्वसनीय, प्रामाणिक और सटीक है।
  • सामान्य रूप से पूर्वाग्रह से मुक्त
  • यह वास्तव में परियोजना की जरूरत से मेल खाता है

प्राथमिक संमको के अवगुण

  • यह महंगा है 
  • समय की खपत अधिक होती हैं
  • कभी-कभी सटीक स्रोत से संपर्क करना मुश्किल हो सकता है

द्वितियक संमको की खूबियां

  • यह आसानी से उपलब्ध है 
  • प्राथमिक संमको की तुलना में बहुत कम खर्चीला और समय लगता है।

द्वितियक संमको के अवगुण

  • वे वर्तमान संदर्भ में प्रासंगिक हो, यह सदैव जरूरी नही हैं। यह महंगा है
  • वे व्यक्तिगत पूर्वाग्रह से मुक्त नहीं हो सकते हैं
  • कभी-कभी वे पर्याप्त नहीं हो सकते हैं
  • वे पुराने हो सकते हैं और इसलिए द्वितियक डेटा का उपयोग करने से पहले उचित देखभाल और सावधानियों की आवश्यकता होती है

संमक एकत्र करने के स्रोत

संमको के प्राथमिक स्रोत

प्रत्यक्ष व्यक्तिगत साक्षात्कार (direct Personal Interview):-

  • उपयुक्त जब जांच के क्षेत्र सीमित है
  • जांच की प्रकृति गोपनीय है
  • सटीकता की अधिकतम डिग्री की आवश्यकता है
  • अन्वेषक कुशल व्यवहारकुशल और तटस्थ होना चाहिए

ex. प्राकृतिक आपदा की स्थिति में

अप्रत्यक्ष व्यक्तिगत साक्षात्कार (indirect personal Interview):-

  • जब प्रत्यक्ष स्रोत उपलब्ध नहीं है या जानकारी देने के लिए अनिच्छुक है।
  • अन्य संबंधित व्यक्ति (यो) के माध्यम से जानकारी प्राप्त करना, जिससे आवश्यक जानकारी रखने की उम्मीद है।

ex. रेल दुर्घटना की स्थिति में

टेलीफोनिक साक्षात्कार (Telephonic Interview):-

  • व्यापक कवरेज क्षेत्र
  • कम सुसंगत विधि
  • उच्च गैर प्रतिक्रिया (non response)

प्रश्नावली द्वारा (mailed questionnaires):-

  • इसमें विचारधीन समस्या के सभी महत्वपूर्ण तथ्यों को कवर करने वाली एक अच्छी तरह से तैयार की गई और गहराई से अनुक्रमित प्रश्नावली तैयार करना शामिल है और उन्हें उत्तरदाताओं को भेजना शामिल है।
  • व्यापक क्षेत्र को कवर किया जा सकता है
  • गैर प्रतिक्रिया अधिकतम होती है।

संवाददाताओं के माध्यम से जानकारी:-

  • इस विधि में स्थानीय एजेंटों को जांच क्षेत्र के विभिन्न भागों में नियुक्त किया जाता है।
  • मुख्य रूप से समाचार पत्र, टीवी समाचार और रेडियो समाचार आदि द्वारा उपयोग किया जाता है।

अवलोकन विधि:-

  • यह समय लेने वाला है, श्रमसाध्य है और केवल एक छोटे से क्षेत्र को शामिल किया जा सकता है।
  • इस विधि में डेटा अन्वेषक द्वारा ही एकत्र किया जाता है।
  • उदाहरणार्थ छात्रों के एक वर्ग के वजन और ऊंचाई का डेटा।

प्रगणकों द्वारा भरी गई प्रश्नावली:-

  • यह मेल प्रश्नावली का वैकल्पिक दृष्टिकोण है
  • इस विधि में प्रशिक्षित जांचकर्ता मानक प्रश्नावली के साथ जानकारी देने वालों तक भेजें जाते हैं। योग्य और प्रशिक्षित प्रगणक जानकारी देने वालो को उनके उत्तरों को रिकॉर्ड करने में मदद करते हैं।
  • आम तौर पर अनुसंधान संगठनों द्वारा इस्तेमाल किया जाता है।

संमको के द्वितीयक स्रोत

सरकारी प्रकाशन:-

  • उद्योगों की वार्षिक सर्वेक्षण रीपोर्ट
  • श्रम गजट
  • भारत के कृषि सांख्यिकी (संमक)

अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रकाशन:-

  • संयुक्त राष्ट्र संगठन की रिपोर्ट
  • W.H.O.
  • अंतरराष्ट्रीय मौद्रिक कोष (आईएमएफ) की रीपोर्ट

अर्ध - सरकारी प्रकाशन:-

  • नगर निगम, जिला बोर्डों जैसे स्थानीय निकायों की रिपोर्ट, जन्म, मृत्यु, स्वास्थ्य, स्वच्छता आदि के प्रकाशित रिकार्ड्स

समितियों और आयोगों की रिपोर्ट:-

  • अन्वेषक अनुसंधान के विषय पर समितियों और आयोगों की रिपोर्ट का उपयोग कर सकते हैं।

निजी प्रकाशन:-

  • समाचार पत्र और पत्रिकाओं से समंक लेना
  • निजी अनुसंधान संस्थानों की रिपोर्ट
  • पेशेवर श्रमिक निकायों, यूनियनों आदि की रिपोर्ट
  • अन्य लेख, बाजार की समीक्षा और रिपोर्ट

अप्रकाशित आंकड़े:-

  • अनुसंधान छात्र(research scholars) विद्वान, विश्वविद्यालय आदि डेटा एकत्र करते हैं लेकिन वे सामान्य रूप से इसे प्रकाशित नहीं करते हैं।
  • जांचकर्ता इन आंकड़ों का भी इस्तेमाल जांच के लिए कर सकते हैं। जांचकर्ता विभिन्न कार्यालयों के रिकॉर्ड और फाइलों से भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.